.

::ज्योतिष सीखिये

कालसर्प योग-4

राहु चौथे स्थान में और केतु दशम स्थान में हो और इसके बीच सारे ग्रह हो तो...

कालसर्प दोष-3

राहु तीसरे घर में और केतु नवम स्थान में और इस बीच सारे ग्रह ग्रसित हों तो...

कालसर्प योग 2-

कुलिक नाम कालसर्प योग- राहु दूसरे घर में हो और केतु अष्टम स्थान में हो और सभी...

कालसर्प योग-

कालसर्प योग का प्रादुर्भाव कब हुआ यह कोई नहीं जानता है । परन्तु यह आजकल बड़ा...

मंगल दोष –

लग्ने व्यये च पाताले जामित्रे चाष्टमे कुुजे। कन्या भर्तृ विनाशाय वरः...

भयात भभोग साधन-

भयात भभोग साधन के लिए सर्वप्रथम आपको जन्म नक्षत्र तथा इष्टकाल को साधित करना...

ग्रहण योग –

ग्रहण योग – कुण्डली में ग्रहण योग एक प्रकार का प्राकृतिक योग है। इस योग का...

मंगल दोष और विवाह –

लग्ने व्यये च पाताले जामित्रे चाष्टमे कुुजे। कन्या भर्तृ विनाशाय वरः...

ज्यो​तिष सीखिये -अयनांश साधन

‌‌‌अयनांश साधन- अयनांश साधन के कई प्रकार ज्यो​तिष ग​णित मे प्रच​लित हैं।...

ज्योतिष सीखिये -योग

अचानक धन प्राप्ति का योग – यदि पंचमेश बली होकर केन्द्र त्रिकोणआदि में शुभ...