.

व्रत-पर्व अक्टूबर 2016


1 अक्टूबर
शारदीय नवरात्रारम्भ। कलश स्थापन। ध्वजारोहण। महाराजा अग्रसेन जयन्ती। दौहित्र कृत मातामह श्राद्ध। बुध उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र में घं. 06/34 पर।
2 अक्टूबर
चन्द्र दर्शन मु.30 साम्यर्घ। महात्मा गाँधी जयन्ती। लालबहादुर शास्त्री जयन्ती। चरखा जयन्ती। 1 तिथि वृद्धि।
3 अक्टूबर
हिजरी सन् 1438 मोहर्रम पहला माह प्रारम्भ। विश्व प्रकृति दिवस। बुध कन्या राशि में घं. 17/51 पर।
4 अक्टूबर
विश्व पशु दिवस।
5 अक्टूबर
वैनायकी श्री गणेश चतुर्थी व्रत। ब्रह्मावर्त (बिठूर) में सिद्ध गणेश मंदिर में अभिषेक। विश्व शिक्षक दिवस। शुक्र विशाखा नक्षत्र में घं. 09/56 पर।
6 अक्टूबर
उपांग ललिता पंचमी व्रत। ललिता पंचमी। विश्व वन्यजीव दिवस। गुरू उदय पूर्व में घं. 25/11 पर।
8 अक्टूबर
मूल नक्षत्र में सरस्वती देवी का आवाहन। भद्रकाली अवतार। अन्नूपूर्णा परिक्रमा प्रारम्भ घं. 21/25 बजे से। ओली प्रारम्भ (जैन) चतुर्थी पक्ष। भारतीय वायु सेना दिवस। मंगल पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र में घं. 16/20 पर।
9 अक्टूबर
श्री दुर्गाष्टमी व्रत। महाष्टमी। अष्टमी का हवनादि आज ही करें। भद्रकाली अवतार। पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र में सरस्वती देवी का पूजन। अन्नपूर्णा परिक्रमा समाप्त घं. 22/31 बजे। ओली प्रारम्भ (जैन पंचमी पक्ष)। श्री अष्टभुजी दुर्गा शक्ति पीठ (दुर्गा मंदिर) ह्यवाईह्ण ब्लाक, किदवई नगर कानपुर में शतचण्डी यज्ञ का हवन पूर्णाहुति एवं महाप्रसाद वितरण। शक्ति संगीत सभा। विश्व डाक दिवस। बुध हस्त नक्षत्र में घं. 24/11 पर।
10 अक्टूबर
श्री दुर्गानवमी व्रत। श्री महानवमी। नवमी का हवनादि आज ही करें। उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में सरस्वती देवी के निमित्त बलिदान। मन्वादि। सूर्य चित्रा नक्षत्र में घं. 12/57 पर। सूर्य-चन्द्र, स्त्री-पुरुष योग, वाहन खर, नाड़ी नीरा, तदीश शुक्र (स्त्री) अत: खण्ड वृष्टि हो। श्री अष्टभुजी दुर्गा शक्ति पीठ (दुर्गा मंदिर) में कुमारिका भोज।
11 अक्टूबर
श्री विजयादशमी विजय घं. 14/01 से 14/45 तक। शमी पूजा। अपराजिता पूजा। नीलकण्ठ दर्शन। राजाओं का पट्टाभिषेक। बौद्धावतार। सीमोल्लंघन। शस्त्रादि पूजा। श्रवण नक्षत्र में सरस्वती देवी का विसर्जन।
12 अक्टूबर
पापांकुशा एकादशी व्रत सबका। काशी में नाटी अमली का भरत मिलाप। श्री माधवाचार्य जयन्ती। मोहर्रम (ताजिया)। विश्व दृष्टि दिवस। बुध अस्त पूर्व में घं. 17/49 पर।
13 अक्टूबर
स्नान-दान-श्राद्धादि की सोमवती अमावस्या (आजतैल स्पर्श का निषेध है)। अमावस्या श्राद्ध। पितृ विसर्जन 30। महालया समाप्त। सर्वपैत्री। अज्ञात तिथि वालों का श्राद्ध आज ही करना चाहिये। अन्वाधान।
14 अक्टूबर
प्रदोष व्रत। विश्व मानक दिवस।
15 अक्टूबर
्रत की पूर्णिमा। शरद पूर्णिमा। कोजागरी पूर्णिमा। रात्रि में लक्ष्मी कुबेरादि पूजा। लक्ष्मी पूजा। कुमार पूर्णिमा। अन्वाधान। श्री अष्टभुजी दुर्गा शक्तिपीठ (दुर्गा मन्दिर) कदवई नगर कानपुर में महामाया श्री विद्या राज राजेश्वरी त्रिपुर सुन्दरी एवं श्रीयंत्र का महाभिषेक व अर्चन।
16 अक्टूबर
स्नान-दानादि की आश्विनी पूर्णिमा। नवान्न भक्षण। बंगदेशीय लखी पूजा। आश्वयुजी कर्म (आश्वलायन शाखा)। महर्षि बाल्मीकि जयन्ती। आश्विन मासीय स्नान-व्रत-यम-नियमादि समाप्त। आज से कार्तिक मास पर्यन्त आकाश में दीपदान करना चाहिए। ओली समाप्त (जैन)। कार्तिक मासीय व्रत यम नियमादि प्रारम्भ। इष्टि। आकश दीपदान यज्ञ प्रारम्भ। शुक्र अनुराधा नक्षत्र में घं. 09/29 पर।
कार्तिक कृष्ण पक्ष
17 अक्टूबर
कार्तिक मास कृष्ण पक्षारम्भ। कार्तिक मासीय व्रत-यम नियमादि प्रारम्भ। कार्तिक मास में द्विदल (दाल) का त्याग करना चाहिए। तुलसीदास से श्री विष्णु पूजा। अशून्य शयन द्वितीया व्रत। गुरू रामदास जयन्ती। सूर्य की तुला संक्रान्ति घं. 06/33 पर। चन्द्र दर्शन मु.30 साम्यर्घ। संक्रान्ति का विशेष पुण्यकाल सूर्योदय से घं. 10/33 तक, तत्पश्चात सामान्य पुण्यकाल घं. 12/57 तक। आज से वृश्चिक संक्रान्ति पर्यन्त तिल तेल का आकाश में दीपदान करना चाहिए। दीप, तिल, गौ, रसादि दान। गोदावरी में स्नान। 2 तिथि क्षय। सौर (तुला) कार्तिक मासारम्भ। बुध चित्रा नक्षत्र में घं. 17/15 पर।
18 अक्टूबर
दशरथ ललिता व्रत।
19 अक्टूबर
मूल नक्षत्र में सरस्वती देवी का आवाहन।
20 अक्टूबर
राष्ट्रीय एकता दिवस।
21 अक्टूबर
स्कन्द षष्ठी व्रत। बुध तुला राशि में घं. 14/22 पर।
22 अक्टूबर
अहोई अष्टमी व्रत सबका (साययं कालीन अष्टमी में)। सूर्य सायन वृश्चिक राशि में घं. 29/16 पर।
23 अक्टूबर
राष्ट्रीय कार्तिक मासारम्भ। सूर्य-चन्द्र, स्त्री-स्त्री योग, वाहन मेष, अमृता नाड़ी, तदीश चन्द्र (स्त्री),वायु अधिक वर्षा अल्प होगी।
24 अक्टूबर
श्री गुरु हरराय जोति जोत। श्री गुरु हरकिशन गुरयायी।
25 अक्टूबर
बुध स्वाती नक्षत्र में घं. 13/10 पर।
26 अक्टूबर
रम्भा एकादशी व्रत सबका। आज आकाश में दीपदान करना चाहिये। गोवत्स पूजा। गो वत्स द्वादशी (प्रदोष व्यापिनी द्वादशी में) नारी कत्र्तक नीरांजन विधि 5 दिन तक। वसु द्वादशी।
27 अक्टूबर
धनतेरस। धन्वन्तरि जयन्ती। यम पंचकारम्भ। निशामुख में यम पंचकारम्भ। निशामुख में यम के लिए घर से बाहर दीपदान। अरुणोदय काल पंचकारम्भ। मंगल उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में घं. 17/30 पर। शुक्र ज्येष्ठा नक्षत्र में घं. 10/06 पर।
28 अक्टूबर
प्रदोष व्रत। गो त्रिरात्र व्रत प्रारम्भ। मास शिवरात्रि व्रत। काली चतुर्दशी (महानिशीथ काल में)।
29 अक्टूबर
श्री हनुमान जयन्ती। हनुमान जी का जन्म सायं मेष लग्न में (हनुमान जी का दर्शन पूजन)। नरक चतुर्दशी व्रत। रूप चतुर्दशी। सायं प्रदोष वेला में देवालयों में दीपदान तत्पश्चात घर से दीपदान करना चाहिए। कामेश्वरी जयन्ती।
30 अक्टूबर
स्नान-दान-श्राद्धादि की अमावस्या। दीपावली। प्रात: हनुमद्दर्शन। प्रदोष काल में लक्ष्मीन्द्र-कुबेरादि पूजा (प्रदोष काल घं. 17/19 से घं. 19/53 तक। खाता (बसना पूजा) महानिशीथ काल में महालक्ष्मी पूजा। महानिशीथ काल घं. 24/16 से घं. 25/07 बजे तक। शेष रात्रि में दरिद्र नि:स्सारण। महावीर निर्वाण दिवस (जैन)। स्वामी रामतीर्थ जनम एवं निर्वाण दिवस। ऋषि बोधोत्सव। स्वामी दयानन्द निर्वाण दिवस। गौरी-केदार व्रत। विश्व बचत दिवस।
कार्तिक शुक्ल पक्ष
31 अक्टूबर
कार्तिक शुक्ल पक्षारम्भ। अन्नकूट। गोवर्धन पूजा। बलि पूजा। सायं प्रदोष बेला में बलिपूजा। सायं द्यूत क्रीड़ा। यष्टिकार्षण। नारीकत्र्तक नीरांजन विधि समाप्त। यम पंचक समाप्त। गौ-क्रीड़ा। गो-संवर्धन सप्ताह प्रारम्भ। मार्गपाली बंगाल। नेपाली संवत् 1137 वीर निर्वाण संवत् 2543 प्रारम्भ। गुर्जर नव सम्वत्सराम्भ 2073। सरदार पटेल जयन्ती। इंदिरा गांधी बलिदान दिवस।

Reviews

  • Total Score 0%
User rating: 0.00% ( 0
votes )



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *