.

व्रत-पर्व नवंबर 2016


1 नवंबर-चन्द्र दर्शन मु. 30 साम्यर्घ। भ्रातृ द्वितीया। यम द्वितीया। चित्रगुप्त पूजा। यम पूजा दीप दानादि। यमुना स्नान। कलम दावात पूजन। भैया दूज। भगिनी गृह में भोजन। श्री गुरू ग्रन्थ साहब गुरयायी दिवस। मंगल मकर राशि में घं. 08/39 पर।
2 नवंबर-हिजरी सफर 2 माह शुरू। बुध विशाखा नक्षत्र में घं. 16/51 पर।
3 नवंबर-अहोई अष्टमी व्रत सबका (सायं कालीन अष्टमी में)। मंगल कन्या राशि में 08.10 बजे। शुक्र कन्या राशि में 07.33 बजे।
4 नवंबर-सूर्य षष्ठी व्रत का प्रथम संयम।
5 नवंबर-सौभाग्य पंचमी व्रत। पाण्डव पंचमी। ज्ञान पंचमी (जैन)। सूर्य षष्ठी व्रत का द्वितीय संयम (एक भुक्त खरना)। सतगुरू श्री गुरू गोविन्द सिंह जोति जोत।
6 नवंबर-सूर्य षष्ठी व्रत (डाला छठ)। सायंकाल प्रथमाघ्र्य दान। अरुणोदय काल में द्वितीयाघ्र्य दान। सूर्य विशाखा नक्षत्र में घं. 07/34 पर।
7 नवंबर-कल्पादि। सूर्य षष्ठी व्रत का पारण। शुक्र मूल नक्षत्र व धनु राशि में घं. 12/00 पर।
8 नवंबर-श्री दुर्गाष्टमी व्रत। श्री गोपाष्टमी। गो-पूजा एवं श्रृंगार। गायों को यवन्नादि दान। गो संवर्धन सप्ताह समाप्त। बुध वृश्चिक राशि में घं. 24/41 पर।
9 नवंबर-अक्षय नवमी। जगद्धात्री पूजा। कूष्माण्ड नवमी। त्रेता युगादि (मतान्तर से)। स्वर्णयुक्त कूष्माण्ड दान। मथुरा प्रदक्षिणा। विष्णु त्रिरात्रारम्भ। विष्णु प्रतिमा सहित तुलसी पूजा द्वादशी तक, तत्पश्चात् प्रतिमादान। धातृ (आँवला) वृक्ष की परिक्रमा-पूजन-तर्पण, तत्पश्चात् आँवला वृक्ष के नीचे भोजन।
10 नवंबर-बुध अनुराधा नक्षत्र में घं. 28/09 पर।
11 नवंबर-प्रबोधिनी एकादशी व्रत सबका। देवोत्थानी एकादशी। तुलसी विवाहरम्भ। ईख रस प्राशन। भीष्म पंचकारम्भ। तुलसी विवाहोत्सव। श्री विष्णु त्रिरात्र समाप्त। चातुर्मास्य व्रत यम नियमादि समाप्त। द्विदल (दाल) दान। हरिवासर घं. 25/00 से।
12 नवंबर-मन्वादि कवि कुल गुरु कालिदास जयन्ती। शनि प्रदोष व्रत (पुत्रार्थियों के लिए श्रेष्ठ है)। हरिवासर घं. 06/24 तक। 13 तिथि क्षय।
13 नवंबर-्रोटक व्रत समाप्त। निशीथ काल व्यापिनी चतुर्दशी में वैकुण्ठ चतुर्दशी व्रत। अरुणोदय काल में मणिकर्णिका घाट पर स्नान। निशीथ काल में महाविष्णु पूजा। श्री काशी विश्वनाथ प्रतिष्ठा दिवस। नर्मदेश्वर शिवलिंग को तुलसी पत्र समर्पण। कार्तिक व्रतोद्यापन।
14 नवंबर-मन्वादि। स्नान-दान-वृतादि की कृत्तिका नक्षत्रयुता परमपुण्यदायिनी कार्तिकी पूर्णिमा, परम पुण्यकाल घं. 16/27 से सूर्यास्त तक (अति प्रशस्त पद्मक योग)। रास पूर्णिमा। मत्स्यावतार। भृगु आश्रम (बलिया) ददरी में स्नान का विशेष महत्व है। पुष्कर मेला (अजमेर)। रथयात्रा (जैन)। चातुर्मास्य समाप्त (जैन)। श्री निम्बार्क जयन्ती। श्री गुरु नानक जयन्ती। कार्तिकेय दर्शन। हरिहर क्षेत्र का मेल (सोनपुर)। भीष्म पंचक समाप्त। कार्तिक मासीय व्रत यम नियमादि समाप्त। गोपद्म व्रत समाप्त। कार्तिक व्रतोद्यापन देशाचार से। त्रिपुरोत्सव। त्रिपुरा पूर्णिमा। श्री विद्या महामाया राज राजेश्वरी त्रिपुर सुन्दरी पूर्णिमा। श्री अष्टभुजी दुर्गा शक्तिपीठ (दुर्गा मन्दिर) में महामाया श्री विद्या राज राजेश्वरी त्रिपुर सुन्दरी एवं श्रीयंत्र का महाभिषेक व अर्चन। पं. जवाहरलाल नेहरू जन्म दिवस, बाल दिवस (उँ्र’१िील्ल२ ऊं८)। मंगल श्रवण नक्षत्र में घं. 24/48 पर।
 
मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष
15 नवंबर-मार्गशीर्ष मास कृष्ण पक्षारम्भ। मार्गशीर्ष व्रत-यम-नियमादि प्रारम्भ। अशून्य शयन द्वितीया व्रत।
16 नवंबर-सूर्य की वृश्चिक संक्रान्ति घं. 06/21 पर। चन्द्र दर्शन मु.45 समर्घ। संक्रान्ति का विशेष पुण्य काल सूर्योदय से संक्रान्ति काल तक, तत्पश्चात सामान्य पुण्य काल संक्रान्ति काल से घं. 12/45 तक। दीप वस्त्र, दान, नर्मदा में स्नान, संकल्पादि में प्रयोजनीय हेमन्त ऋतु प्रारम्भ। आकाश दीप-दान समाप्त। सौर (वृश्चिक) मार्गशीर्ष मासारम्भ।
17 नवंबर-संकष्टी श्री गणेश चतुर्थी व्रत। चन्द्रोदय घं. 20/12 पर। ब्रह्मावर्त (बिठूर) में सिद्ध गणेश मंदिन में अभिषेक। सौभाग्य सुन्दरी व्रत। 4 तिथि क्षय।
18 नवंबर-शुक्र पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र में घं. 15/53 पर।
19 नवंबर-सूर्य अनुराधा नक्षत्र में घं. 13/40 पर। बुध ज्येष्ठा नक्षत्र में घं. 21/43 पर।
20 नवंबर-भानु सप्तमी पर्व। चेहल्लुम। नेप्च्यून मार्गी घं. 29/28 पर।
21 नवंबर-कालाष्टमी। श्री महाकाल भैरवाष्टमी। श्री महाकाल भैरव जयन्ती। सायंकाल अष्टमी में श्री भैरव जी का दर्शन पूजन। भैरव उत्पत्ति। भैरव जयन्ती। प्रथमाष्टमी (उड़ीसा)। सूर्य सायन धुन राशि में घं. 26/52 पर।
22 नवंबर-राष्ट्रीय मार्गशीर्ष मासारम्भ।
23 नवंबर-शनि अस्त पश्चिम में घं. 18/17 पर।
24 नवंबर-बुध उदय पश्चिम में घं. 30/03 पर।
25 नवंबर-उत्पन्ना एकादशी व्रत सबका। वैतरणी व्रत।
26 नवंबर-शनि प्रदोष व्रत (पुत्रार्थियों के लिए श्रेष्ठ है)।
27 नवंबर-मास शिवरात्रि व्रत।
28 नवंबर-महाव्रतारम्भ। बुध मूल नक्षत्र व धनु राशि में घं. 22/15 पर।
29 नवंबर-स्नान-दान-श्राद्धादि की भौमवती अमावस्या। अन्वाधान। कमला जयन्ती। गौरी तप व्रत। शहादते इमाम हसन। शुक्र उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में घं. 22/32 पर।
 
मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष
30 नवंबर-मार्गशीर्ष मास शुक्ल पक्षारम्भ। रुद्रव्रत (पीड़िया)। आधी रात के बाद पीड़िया का नदी या तालाब में विसर्जन। आखिरी चहार शम्बा। झण्डा दिवस।

 

Reviews

  • Total Score 0%
User rating: 0.00% ( 0
votes )



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *