.

कुण्डली मिलान

कुण्डली मिलान क्यों आवश्यक है? कभी आपने अनुभव किया होगा की किसी व्यक्ति के साथ आप के वैचारिक तथा क्रियात्मक विचारधारा मेल खाती है। आप किसी व्यक्ति के पास अपना समय अधिक व्यतीत कर लेते हैं। पर आप किसी अन्य व्यक्ति के साथ बैठ तक नहीं पाते या आपको अच्छा नहीं लगता। यदि हम इस बात को ज्योतिष की दृष्टि से देखें तो आपके ग्रह उस व्यक्ति के साथ मेल खा रहे हैं। विज्ञान इस बात को इस तरह कहता है कि हमारा षरीर एक चुम्बकीय क्षेत्र निर्मित करता है और जिस व्यक्ति का यह क्षेत्र आपस में एक दूसरे से मेल खाता है तो उनकी विचार धारायें समान होती हैं। इस लिए हमारी प्राचीन परम्परा अत्यधिक महत्वपूर्ण है। वैवाहिक जीवन की सफलता हेतु कुण्डली मिलान आवश्यक भी है।

   जन्मकुण्डली मिलान आर्डर फार्म
  जन्म कुण्डली मिलान हमारी प्राचीन परम्परा है | ज्योतिष के अनुसार वर तथा वधु की जन्म पत्रिका का मिलान करने के उपरांत ही विवाह करना श्रेयस्कर माना गया है | क्योंकि विवाह दोनों के जीवन का महत्वपूर्ण संयोग है तथा सफल दांपत्य जीवन के लिए कुण्डली मिलान को आवश्यक माना गया है | अष्टकूट गुण मिलान तथा मंगली दोषों का विचार करके विवाह का निर्देश दिया जाता है | उचित पत्रिका मिलान हेतु निम्न फार्म भरकर जमा ( submit ) करें -
वर का विवरण
नाम-
जन्म तिथि -
जन्म समय-
जन्म स्थान-
देश-
पत्राचार का पता-
ई-मेल पता-
मोबाईल नम्बर-
वधु का विवरण
नाम-
जन्म तिथि -
जन्म समय-
जन्म स्थान-
देश-
                                                      नोट : शुल्क - ₹ 251